जाने प्रभु को क्या सूझी है?

  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

10           जाने प्रभु को क्या सूझी है? जीवन सागर सा अथाह  है, ना दिखती कोई सरल राह है, उम्मीदें  भी बुझी-बुझी…

518 0

मन की बात राधा रानी के साथ

  • 5
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

5          ||.. “हे राधे” सुना है तेरी गलियों के आशिक कुछ कम नहीं ||.. ||.. वहां बैठे है हर नुक्कड़ पर सजाये…

543 0

खामोशी अब कान्हा की..

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           समझने लगी हूं.. खामोशी अब कान्हा की मैं.. , पढ़ने लगी हूं.. आंसू अब राधा के मैं.. एक खामोशी  से सह…

419 0

कलयुग की धरती बदलने लगी है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

             कलयुग की धरती बदलने लगी है। हर तरफ अनोखी छटा बिखरने लगी है। सतयुग की अयोध्या फिर चमकने लगी है।…

295 0

मैं तलाश में हूं जिंदगी की…

  • 21
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

21          आँख मिचौली करती है। कभी ना रूबरू मिलती है। मैं भागती हूं रोज इसके पीछे यह सौ कदम आगे चलती है।…

289 0
krishna jatayu bhishma pitamah

जटायु को श्रीराम की गोद की शय्या मिली पर भीष्म पितामह को मरते समय बाण की शय्या मिली. ऐसा अंतर क्यों?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           शास्त्रों के अनुसार जटायु और भीष्म पीतामह दोनों को इच्छा मृत्यु का वरदान था। तो फिर क्यों जटायु को मिली भगवान…

369 0
krishna sudama friendship

कान्हा अब तो मोहे चाकर लियो बनाये

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           | नित नित तेरे दर्शन पाऊँ, पलकन अपने द्वारा झराऊँ | || दे दो मुझे भी कारज कोई, दास बना अब…

610 0
phool bunglow on krishna

आखिरकार एकादशी के तीन दिन बाद फूल बंगले में विराजे बांकेबिहारी जी

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

             आखिरकार एकादशी के तीन दिन बाद यानि मंगलवार को ठाकुर बांकेबिहारी जी के निज बगीचे के उत्पन्न फूलों से फूल…

321 0
krishna virah varnan

क्या था कृष्णा का विरह ?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           हम सभी जानते है की, प्रभु श्री कृष्णा अपने बाल्य जीवन की लीलाये गोकुल, नंदगाव् और वृन्दावन में करके मथुरा चले…

524 0
Load more