मेरी राधे को ये पैगाम देना

मेरी राधे को ये पैगाम देना

  • 307
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

307            || ए हवाओं अगर गुजरो वृन्दावन से तो मेरी राधे को ये पैगाम देना… || और पहुंचते ही मेरी आंखो…

920 0
krishna image

मुझे अपने ही रंग में रंग लो साँवरे

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           || मुझे अपने ही रंग में रंग लो साँवरे अपने ही रंग में। ….. || मुझे भूलना है दुनिया दारी नहीं…

672 0

जाने प्रभु को क्या सूझी है?

  • 10
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

10           जाने प्रभु को क्या सूझी है? जीवन सागर सा अथाह  है, ना दिखती कोई सरल राह है, उम्मीदें  भी बुझी-बुझी…

518 0

जीने का नज़रिया  बदल दे आज़ादी है..

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           वो एक सोंच  जो जीने का नज़रिया  बदल दे आज़ादी  है वो एक रास्ता जो अपने देश को उन्नति  का मोड़…

449 0

खामोशी अब कान्हा की..

  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2          समझने लगी हूं.. खामोशी अब कान्हा की मैं.. , पढ़ने लगी हूं.. आंसू अब राधा के मैं.. एक खामोशी  से सह…

417 0
krishna janmashtami

आ भी जाओ कृष्णा हमारे

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

           || आ भी जाओ कृष्णा हमारे कलयुग की धरती तुम्हे पुकारे || || हर घर फिर वृन्दावन हो जाएं माखन मिश्री…

731 2

भए प्रगट आज नंदलाल

  • 632
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

632          || बाजत ढोल गगनं में गुंजत भए प्रगट आज नंदलाल || || लोक लोक से पुष्प है बरसत घनी रात्रि बदल…

592 0

मैं तलाश में हूं जिंदगी की…

  • 21
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

21          आँख मिचौली करती है। कभी ना रूबरू मिलती है। मैं भागती हूं रोज इसके पीछे यह सौ कदम आगे चलती है।…

289 0

घर को वृंदावन बना लिया है

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

             मैने अपने घर में मन लगाने का तरीका खोज लिया है। मेरा मन अब शांत है आनंद में है क्योंकि…

317 2
radhey-radhey.com

जरा संभल जा मानव

  • 153
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

153            || मानव तुमने हर दम अपनी मानवता को खोया है। || || इसीलिए तुम्हे बनाकर हर पल ईश्वर रोया है।…

397 2
Load more