मैं तलाश में हूं जिंदगी की…

788 0
आँख मिचौली करती है।
कभी ना रूबरू मिलती है।

मैं भागती हूं रोज इसके पीछे
यह सौ कदम आगे चलती है।

कभी छांव तो कभी धूप सी जलती है।
हजार तमन्नाएं मेरी इसे देखकर मचलती हैं ।

यह जो जिंदगी है,
कभी पानी सी कभी रेत सी हाथों से फिसलती है।

कभी छोड़ देती हाथ तो,
कभी बनकर साया साथ मेरे चलती है।

Facebook Comments

मैं तलाश में हूं जिंदगी की… pinit fg en rect red 28

क्या पसंद आया?
0 / 3 0
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x