Browsing tag

zindagi ki mehek

मैं तलाश में हूं जिंदगी की…

आँख मिचौली करती है। कभी ना रूबरू मिलती है। मैं भागती हूं रोज इसके पीछेयह सौ कदम आगे चलती है। कभी…

777 0
Load more