जाने प्रभु को क्या सूझी है?

            जाने प्रभु को क्या सूझी है? जीवन सागर सा अथाह  है, ना दिखती कोई सरल राह है,उम्मीदें  भी बुझी-बुझी हैं।…

1094 0

मन की बात राधा रानी के साथ

            ||.. “हे राधे” सुना है तेरी गलियों के आशिक कुछ कम नहीं ||.. ||.. वहां बैठे है हर नुक्कड़ पर…

खामोशी अब कान्हा की..

    2       समझने लगी हूं.. खामोशी अब कान्हा की मैं.. , पढ़ने लगी हूं.. आंसू अब राधा के मैं.. एक खामोशी  से…

853 0

कलयुग की धरती बदलने लगी है

              कलयुग की धरती बदलने लगी है। हर तरफ अनोखी छटा बिखरने लगी है। सतयुग की अयोध्या फिर चमकने लगी…

603 0

मैं तलाश में हूं जिंदगी की…

            आँख मिचौली करती है। कभी ना रूबरू मिलती है। मैं भागती हूं रोज इसके पीछेयह सौ कदम आगे चलती है।…

615 0
krishna jatayu bhishma pitamah

जटायु को श्रीराम की गोद की शय्या मिली पर भीष्म पितामह को मरते समय बाण की शय्या मिली. ऐसा अंतर क्यों?

            शास्त्रों के अनुसार जटायु और भीष्म पीतामह दोनों को इच्छा मृत्यु का वरदान था। तो फिर क्यों जटायु को मिली…

1382 0
krishna sudama friendship

कान्हा अब तो मोहे चाकर लियो बनाये

            | नित नित तेरे दर्शन पाऊँ, पलकन अपने द्वारा झराऊँ | || दे दो मुझे भी कारज कोई, दास बना…

phool bunglow on krishna

आखिरकार एकादशी के तीन दिन बाद फूल बंगले में विराजे बांकेबिहारी जी

              आखिरकार एकादशी के तीन दिन बाद यानि मंगलवार को ठाकुर बांकेबिहारी जी के निज बगीचे के उत्पन्न फूलों से…

822 0
krishna virah varnan

क्या था कृष्णा का विरह ?

            हम सभी जानते है की, प्रभु श्री कृष्णा अपने बाल्य जीवन की लीलाये गोकुल, नंदगाव् और वृन्दावन में करके मथुरा…

1421 0
Load more